राहत: बम चबाने से घायल गाय ने दिया स्वस्थ बछडे़ को जन्म

Spread with love

गाय के स्वास्थ्य में हो रहा सुधार, भविष्य में खुद खा सकेगी चारा

शिमला, 06 जून, 2020। हिमाचल प्रदेश के जिला बिलासपुर से एक बड़ी राहत का समाचार मिला है। बीती 25 मई की शाम झंडुता तहसील के गांव डाढ़ में जंगली सुअर के लिए लगाए जाने वाला बम्ब चबाने से जबड़ा गवां चुकी गाय ने एक स्वस्थ बछडे़ को जन्म दिया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार हादसे के समय गाय गर्भवती थी। इस हादसे ने जहां गौ पालक और उसके पूरे परिवार को झकझोर दिया था वहीं अब ये खबर बड़ी राहत लेकर आई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बिलासपुर पशुपालन विभाग के चिकित्सक गाय की स्थिति पर पूरी नजर रखे हुए हैं। इसके लिए चिकित्सक नियमित रूप से गाय के जबडे़ की ड्रैसिंग करने के साथ उसे ग्लूकोज दे रहे हैं, जिससे कम खाने के बाद भी गाय स्वस्थ है और उसके जख्म भी ठीक हो रहे हैं।

पशु चिकित्सक की माने तो विस्फोटक से क्षतिग्रस्त गाय का करीब 4 इंच का जबड़ा दोबारा जोड़ा नहीं जा सकेगा और जिससे गाय के मूंह का कुछ भाग टेढ़ा होने की भी संभावना है। लेकिन बावजूद इसके यदि उसके जख्म भर जाते हैं तो वह खुद से पिन्नी जैसा आहार खा सकेगी।

उधर, बिलासपुर के झंडुता थाना की पुलिस ने गाय के मालिक गुरूदयाल सिंह की शिकायत पर पड़ोस में रहने वाले नंदलाल नाम के शख्स को गिरफ्तार कर लिया है।

आरोपी को कल बिलासपुर की सीजेएम कोर्ट में पेश किया जाएगा। बताया जा रहा है कि आरोपी नंदलाल ने आरोपों को सिरे से खारिज किया है। उसका कहना है कि घटना वाले रोज वह वहां नहीं था।

वहीं शनिवार को स्थानीय पुलिस उपाधीक्षक सहित पुलिस टीम में गांव में फिर से छानबीन की है। प्राप्त जानकारी के अनुसार लाॅकडाउन के दौरान किसी गाय द्वारा झंडुता में विस्फोटक निगलने का यह दूसरा मामला है।

इससे पहले झंडुता के सुलानी गाव में भी एक गाय द्वारा भी ऐसे ही विस्फोटक को निगल दिया गया था, लेकिन उस हादसे में गाय को ज्यादा नुकसान नहीं हुआ था। लेकिन क्षेत्र में जंगली जानवरों से अपनी फसल को बचाने के लिए लोगों द्वारा उठाये जा रहे ये गैर कानूनी कदम पालतू जानवरों के लिए मुसीबत बन रहे हैं।

डॉ अविनाश शर्मा, उप स्वास्थ्य निदेशक, पशुपालन विभाग ने कहा कि 25 मई को विस्फोटक जबाने से घायल गाय के स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है। गाय के जबडे़ के टुटे भाग को सर्जरी से जोड़ा नहीं जा सकता है, ऐसे में गाय का मूंह ठीक होने के बाद हल्का टेड़ा होने के संभावना है, लेकिन जख्म भरने के साथ ही गाय खुद चारा खा सकेगी।

फिलहाल उसे ग्लूकोज और पिन्नी का आहार दिया जा रहा है। साथ ही गाय को हादसे के दो दिन बाद ही एक स्वस्थ्य बछड़ा हुआ है। पशुपालन विभाग के चिकित्सक व कर्मचारी गाय की नियमित ड्रेसिंग व स्वास्थ्य जांच कर रहे हैं।

वहीं झंझूता पुलिस थाना प्रभारी प्रीतम शर्मा ने बताया कि झंडुता के डाढ़ गांव के गौ-पालक की शिकायत पर उसके पड़ोसी के खिलाफ आईपीसी की धारा 286, 429 और सैक्शन-11 प्रीवेंशन आॅफ ऐनिमल क्रुएलिटी एक्ट में मुकदमा दर्ज किया गया।

शनिवार को उसे गिरफ्तार किया गया, कल उसे कोर्ट में पेश किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error:
%d bloggers like this: